अनुभव प्राप्त करना |


अनुभव प्राप्त करना
अनुभव प्राप्त करना
 






इमाम अली (अ) वसीयत नामे में अपने बेटे इमाम हसन (अ) से फ़रमाते हैं:



اعرض علِِيه اخبار الماضِِين و ذکره بما اصاب من کان قبلک من الاولِِين و سرفِِي دِِ يارهم و آثارهم فانظر فِِيما فعلوا و عما انتقلوا وِِ اين حلوا و نزلو



अपने दिल के सामने पिछले लोगो की ख़बरें और उनके हालात को रखो जो कुछ उन पर तुम से पहले गुज़र चुका है उसको याद करो उनकी क़ब्रों और वीरानों, खंडरों को देखो कि उन्होने क्या किया। वह लोग कहाँ से आये और कहाँ चले गये और कहाँ हैं।

एक जवान को चाहिये कि वह इतिहास को पढ़े और अपने लिये उनके अनुभवों को जमा करे क्योकि

1. जवान क्योकि कम उम्र होता है उसका ज़हन कच्चा और अनुभव से ख़ाली होता है उसने ज़माने के सर्द व गर्म नही देखे होते और ज़िन्दगी की मुश्किलों का सामना नही किया होता। यही कारण है कि किसी समय एक जवान का दिली सुकून तबाह हो जाता है और वह मायूसी या उसके बर ख़िलाफ़ तबीयत की सख़्ती और तेज़ी की शिकार हो जाता है।

2. ख़्यालात और वहम जवानी के ज़माने की विशेषताएँ हैं जो कभी तो जवान को वास्तविकता से भी दूर कर देते हैं जबकि अनुभव इंसान के वहम के पर्दों का फाड़ वास्तविक ज़िन्दगी में ले आता है। इमाम (अ) फ़रमाते हैं:

التجارب علم مستفاد

इँसानी अनुभव एक फ़ायदेमंद ज्ञान होता है।

3. बावजूद इसके कि जवान की इल्मी सलाहियत और क़ाबिलियत इसी तरह विभिन्न फ़न और महारतें सीखने की सलाहियत बहुत ज़्यादा होती है लेकिन ज़िन्दगी का अनुभव न होने के कारण बिना सोचे फ़ैसले करता है और यह चीज़ उसको दूसरों के जाल में फाँस देती है। इमाम फ़रमाते हैं:

من قلت تجرِِ يته خدع

जिसके पास अनुभव कम हो वह धोखा खा जाता है। इमाम (अ) फ़रमाते हैं: अनुभवी इंसानों के साथ रहो क्योकि उन्होने अपनी क़ीमती चीज़ अनुभव को अपनी सबसे क़ीमती चीज़ यानी उम्र को दे कर हासिल किया है जबकि तुम इस क़ीमती चीज़ को बहुत कम क़ीमत पर आसानी से हासिल कर सकते हो।22

अनुभव प्राप्त करने का एक बहुत बड़ ज़रिया पिछली क़ौमों के इतिहास का अध्धयन करना है। इतिहास, भूतकाल और वर्तमान काल के बीच में संबंध स्थापित करता है बल्कि भविष्यकाल के लिये रास्ते के दिये की तरह होता है। इमाम अली (अ) फ़रमाते हैं पिछली सदियों के इतिहास में तुम्हारे लिये बहुत बड़ी बड़ी इबरत पाई जाती है।